Saturday, May 3, 2008

मरीना बीच पर कुछ पल

पिछले दिनों एक मीडिया वर्कशौप में चेन्नई जाना हुआ ,उस यात्रा और उस बीच के कुछ क्षण आपसे बाँट रहा हूँ-फिलहाल वीडियो के ज़रिये फ़िर शब्दों के ज़रिये भी कुछ बाते करूंगा

5 comments:

प्रभाकर पाण्डेय said...

सुंदरतम ।

डॉ. अजीत कुमार said...

मरीना बीच में सागर की वही उछलती कूदती तरंगें. मन एक बार फ़िर पीछे चला गया और याद आ गयी हमारी लहरों पर धमाचौकड़ी.

PD said...

are sahab chennai aaye aur mujhse mile bina hi chale gaye..
ye achchhi baat nahi hai.. :(

Udan Tashtari said...

अब शब्दों के जरिये वाले एपिसोड का इन्तजार है.

सुभाष नीरव said...

भाई दुष्यंत जी, अपनी चेन्नई यात्रा के सप्ताह भर के दिन याद हो आए। पर आपने चेन्नई के बारे में कुछ खास लिखा नहीं कि दिल कह उठे - वाह !